Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

deep love shayari in hindi - 2020 Latest, बेहतरीन लव शायरी हिंदी में


deep love shayari in hindi - 2020 Latest, बेहतरीन लव शायरी हिंदी में


यूँ तो ए ज़िन्दगी...तेरे सफर से 

शिकायतें बहुत थी,

मगर दर्द जब दर्ज कराने पहुँचे 

तो कतारें बहुत थी।

                                                                                                       

हम तो हर बार खैरियत ही लिखेंगे...

आप लिखावट पर जरा गौर फरमाना...!!

                                                                                                       

तेरे ना होने से जिंदगी में,

बस इतनी सी कमी रहती है,

मैं लाख मुस्कराऊँ फिर भी,

इन आँखों में नमी सी रहती है।

                                                                                                       

चाँद भी छुप जाता है उसके मुस्कुराने से,

दिन भी ढल जाता है उसके उदास हो जाने

से,

क्यों वो नही समझ पाते हैं हाल-ए-दिल मेरा,

मेरी धड़कन रुक जाती है उसके रूठ जाने से।

                                                                                                       

याद ऐसा करो की कोई हद न हो,

भरोसा इतना करना की शक न हो और

इंतेज़ार इतना करो की कोई वक़्त न हो,

दोस्ती ऐसी करो की कभी नफरत न हो!

                                                                                                       

मैं ही पागल था जो उन्हें अपना समझ बैठा था,

उनके साथ के चंद लम्हों में दुनिया समाए बैठा था,

एक वो ही थे समझदार, जो हमें खिलौना समझ बैठे थे,

हमे तड़पा तड़पा के, उनकी फितरत से वाकिफ करते थे।

                                                                                                       

जो दर्द आपणे बाटे है उन्हे सहना तो सिखीये,

जो बात लबो पर रुकी है उन्हे केहना तो सिखीये,

बडी मुश्किल से मिलते है आशियाने आजकल,

हमने दिल मे जगाह दी आप रहना तो सिखीये।

                                                                                                       

हमने तो कभी सोचा ही नहीं था कि,

जो मैं कर रहा हूं वो कोई और करेगा,

कल तक मैं तुझपे मरता था तो कल कोई और मरेगा।

                                                                                                        

आज वो कुछ रूठे रूठे से हे,

दिल में कुछ बात छुपाए छुपाए से हे,

पल भर भी नहीं देखा हमारी तरफ,

हम ना जाने क्या खता कर बैठे हे।

                                                                                                       

झूठ लिखूँ तो,,

तुझ को अपना लिखूँ मैं..

सच लिखूँ तो,,

खुद को तेरा लिख दू मैं.!

                                                                                                       

कितना बुरा लगता है ना

जब आपको सच पता हो...

और सामने वाला झूठ पे झूठ 

बोले जा रहा हो..।

                                                                                                        

मन नहीं करता फिर कभी 

दुबारा किसी पे भरोसा करने का।

😔😕🙁😟

                                                                                                       

आदत बदल सी गई है

वक़्त काटने की...

अब हिम्मत ही नहीं होती

किसी से दर्द बांटने की....।

                                                                                                       

य़कीन मानो तुम्हारे बाद,

हँस हँस के ठुकराये हैं

इश्क के कई मौके मैंने !

                                                                                                       

ये सर्द हवाएँ...बिखरे पत्ते और तन्हाई...

दिसम्बर तू सब कुछ ले आया है सिवा उसके...!!!

                                                                                                       

ये माना कि तू मुझसे बात नहीं करेगी,

लेकिन देखना एक दिन उस खुदा से भी तू मेरी फरियाद करेगी।

                                                                                                       

ना ज़ख्म भरे,

ना शराब सहारा हुई..

ना वो वापस लौटीं, 

ना मोहब्बत दोबारा हुई।

                                                                                                       

कोई नहीं होता हमेशा के लिए किसी का,

लिखा है साथ थोड़ा-थोड़ा इस दुनिया में सभी का,

मत बनाओ किसी को अपने जीने की वजह,

क्योंकि बाद में जीना पड़ता है अकेले ही ये असूल है जिन्दगी का ।

                                                                                                        

गुज़र गया वो वक़्त 

जब तेरी हसरत थी मुझको, 

अब तू खुदा भी बन जाए 

तो भी तेरा सजदा ना करू

                                                                                                        

एक लाइन में बताता हूं इश्क़ क्या है,

शहद की डिबिया में ज़हर भरा है

                                                                                                        

ख़ुदा नवाज़े तुझे मुझसे बेहतर,

मग़र तू फिर भी मेरे लिए तरसे..!!

                                                                                                                     

ख्वाब था उसको देने का,

ख्वाब ही रह गया।

                                                                                                       

बहते अश्को की जुबां नहीं होती, 

कभी लब्ज़ो में मोहब्बत बया नहीं होती, मिले जो प्यार तो कदर करना,

क्यों की किस्मत हर किसी पे महेरबान नहीं होती।

                                                                                                       

अगर कोई ज़ोर दे कर पूछेगा,

हमारी मौहब्बत की कहानी,

तो हम भी धीरे से कहेंगे,

मुलाक़ात को तरस गए ।।

                                                                                                       

लगा कर आदत बेपनाह मोहबबत का,

अब वो कहते है समझा करो वक्त नही है।

                                                                                                       

ढूंढ तो लेते अपने प्यार को हम, ;

शहर में भीड़ इतनी भी न थी..;

पर,, रोक दी तलाश हमने, ;

क्योंकि वो खोये नहीं थे, 

बदल गये थे...!!

                                                                                                       

कोई तो होगा टूटा हुआ मेरी तरह ही जो, 

जुड़ने की ख्वाहिश लिए जी रहा होगा अकेला कही।

                                                                                                       

किसी मज्जिद की तरह थी वो,

मैं मंदिर सा उससे हमेशा दूर।

                                                                                                       


तकलीफ ये नहीं की किस्मत ने मुझे धोखा दिया

मेरा यकीन तुम पर था किस्मत पर नही


                                                                                                       

मुस्कराहट,

एक कमाल की पहेली है,

जितना बताती है, 

उससे कहीं ज्यादा छुपाती है।

                                                                                                       

अपनी हालात का ख़ुद अहसास नहीं है मुझको,

मैंने औरों से सुना है कि परेशान हूं मैं।

                                                                                                        

फरेबी भी हूँ, ज़िद्दी भी हूँ, और पत्थर दिल भी हूँ,

मासूमियत खो दी है मैंने वफ़ा करते-करते।

                                                                                                       

दर्द आंखों में झलक जाता है ,पर होठों तक नहीं आता है

ये मजबूरी है मेरे इश्क की, जो मिलता है खो जाता है

उसे भूलने का ख्याल तो हर रोज दिल में आता है, 

पर कैसे भुला दे दिल हर ज़र्रे में जिसको पाता है।

                                                                                                       

तुम पर जब गुजरेगी तो तुम भी जान

जाओगे,😏

जिस तरह मैं ना भुला प्यार में उसको.. शायद 

तुम भी किसीको ना भुला पाओगे।😕

                                                                                                       

जला हुआ जंगल छुप कर रोता रहा,

लकड़ी उसी की थी उस माचिस की तीली में।

                                                                                                       

अगर मोहब्ब्त किसी से बेहिसाब हो जाए,

तो समझ जाना वो किस्मत में नहीं..!!

                                                                                                       

भरोसा प्यार दोनो किया था,

इसमें कोई खता तो नहीं,

वो मेरे कुछ अपने ही थे,

जो आग लगाकर देखने आए,

कहीं कुछ बचा तो नहीं।।

                                                                                                       

 बाहर से जो करता है, बहुत प्यार से बातें

 अन्दर से वही "शख्स" हमारा नहीं होता।

                                                                                                       

इश्क़ की भी अपनी बचकानी ज़िद है,

चुप कराने को भी वही चाहिए,

जो रुला कर गयी है।

Post a Comment

0 Comments